Latest News

श्री केदारनाथ मंदिर परिसर से पीछे किसी भी प्रकार की जानमाल की क्षति नहीं - आपदा प्रबंधन अधिकारी


जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार ने स्पष्ट करते हुए बताया कि हिम-स्खलन आंशिक था जिससे जानमाल की किसी भी प्रकार की क्षति नहीं हुई है और न ही मंदाकिनी एवं सरस्वती नदी के जल स्तर में किसी तरह की वृद्धि हुई है। उक्त घटना को देखते हुए धाम में तैनात एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, पुलिस बल, डीडीआरएफ व यात्रा मैनेजमेंट फोर्स को सतर्कता बरतने के साथ ही निरंतर हिमालयी चोटियों व नदियों के जल स्तर पर निगरानी रखने के निर्देश दिए गए हैं।

रिपोर्ट  - अंजना भट्ट घिल्डियाल

रुद्रप्रयाग 23 सितंबर, 2022, गुरुवार 22 सितम्बर को श्री केदारनाथ मंदिर परिसर से करीब 03 से 04 कि.मी. पीछे स्थित पहाड़ी पर आंशिक हिमस्खलन से किसी भी प्रकार की जानमाल की क्षति नहीं हुई है। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार ने स्पष्ट करते हुए बताया कि हिम-स्खलन आंशिक था जिससे जानमाल की किसी भी प्रकार की क्षति नहीं हुई है और न ही मंदाकिनी एवं सरस्वती नदी के जल स्तर में किसी तरह की वृद्धि हुई है। उक्त घटना को देखते हुए धाम में तैनात एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, पुलिस बल, डीडीआरएफ व यात्रा मैनेजमेंट फोर्स को सतर्कता बरतने के साथ ही निरंतर हिमालयी चोटियों व नदियों के जल स्तर पर निगरानी रखने के निर्देश दिए गए हैं। बताया कि सचिव आपदा प्रबंधन को उक्त हिम-स्खलन के अध्ययन करने हेतु शासन स्तर से टीम गठन करने के लिए पत्र लिखा गया है।

Related Post