Latest News

कुम्भ मेला ड्यूटी में नियुक्त पुलिस/अर्द्धसैनिक बलों के अधिकारी-कर्मचारिगण की ब्रीफिंग


सौभाग्यशाली में ड्यूटी करने का अवसर मिला, क्योंकि महा कुम्भ में आने के लिए लोग बरसों इंतजार करते हैं और दूर दूर से आते हैं, लेकिन आपको किस्मत से ये अवसर मिला है।

हरिद्वार आज दिनांक: 08.04.2021 को पुलिस महानिदेशक उत्तराखंड अशोक कुमार, पुलिस महानिरीक्षक कुम्भ मेला संजय गुंज्याल, आयुक्त गढ़वाल रवि नाथ रमन, मेलाधिकारी दीपक रावत कुम्भ मेला एवं जनपद हरिद्वार के पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों द्वारा आगामी शाही स्नान पर्वों की ड्यूटी में नियुक्त पुलिस/अर्द्धसैनिक बलों के अधिकारी-कर्मचारिगण की ब्रीफिंग की गई। ये ब्रीफिंग भल्ला कॉलेज स्टेडियम में बनी मुख्य कुम्भ मेला पुलिस लाइन के बने वाटरप्रूफ हैंगर में की गई। ब्रीफिंग के शुरुआत में सुरजीत सिंह पंवार, अपर पुलिस अधीक्षक कुम्भ मेला के द्वारा ब्रीफिंग की शुरुआत की गई और अंत तक मंच संचालन किया। सर्वप्रथम ब्रीफिंग में एसएसपी हरिद्वार सैंथिल अबुदई कृष्ण राज एस के द्वारा उपस्थित पुलिस बल को सम्बोधित करते हुए कहा गया कि मेला के कोर एरिया के अंदर जितने भी वाहन और पैदल आने-जाने के मार्ग हैं उन्हें मेले से पूर्व पूरी तरह से अतिक्रमण मुक्त कर लिया जाए ताकि मेले के दिन श्रद्धालुओं और शाही स्नान के अखाड़ो के जुलूस को आवागमन में कोई बाधा न आये। सभी जोनल और सेक्टर पुलिस ऑफिसर अपने-अपने क्षेत्र मजिस्ट्रेटों के साथ ये कार्यवाही करेंगे। मुकेश ठाकुर अपर पुलिस अधीक्षक संचार द्वारा आपसी संपर्क के लिए स्थापित की रेडियो ग्रिड व्यवस्था के बारे में सबको विस्तार से समझाया गया और कहा गया कि ग्रिड का इस्तेमाल मेला से सम्बंधित जरूरी बातचीत के लिए ही करे, अनावश्यक की बातचीत करके ग्रिड व्यवस्था को व्यस्त न रखें। आपस मे संपर्क के लिए मोबाइल से ज्यादा वायर लैस सेट पर निर्भरता रखें क्योंकि अत्यधिक भीड़ आने के बाद मोबाइल नेटवर्क सही से कार्य नही करेंगे। जन्मजेय खंडूरी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कुम्भ मेला 2021 हरिद्वार के द्वारा कहा गया कि ये ब्रीफिंग इस कुम्भ की सबसे महत्वपूर्ण और फाइनल ब्रीफिंग है, जिसमे हमारे द्वारा अब तक की गई सभी तैयारियों के बारे मे विमर्श होगा। एसएसपी कुम्भ द्वारा उपस्थित पुलिस बल को कहा गया कि इस बारे पूर्व कुम्भों की तुलना में पुलिस बल कम आया है इसलिए हम सभी को अपना 100% देने की बजाय 120% देना होगा ताकि कुम्भ सकुशल सम्पन्न हो सके। इस बार सभी ड्यूटीरत पुलिस बलों को अपने अपने बल के उदघोष वाक्य को सार्थक सिद्ध करके दिखाना होगा। ड्यूटी करते समय अधिकारियों के आदेश-निर्देशों के पालन करने के साथ साथ अपने विवेक का भी प्रयोग करके मानवीय पुलिसिंग भी करनी है। सन्दिग्ध व्यक्तियों के सम्बंध में होटल, धर्मशालाओं, लॉज आदि की लगातार चेकिंग करते रहें। अपने-अपने क्षेत्रों में नियमित रूप से संदिग्ध वस्तु के लिए एन्टी सेबोटाज टीम और डॉग स्क्वाड टीम से चेकिंग फ्रीस्किंग करवाते रहें। दीपक रावत मेला अधिकारी द्वारा ब्रीफ किया गया कि हरिद्वार का स्नान बेहद सीमित क्षेत्र में होता है इसलिए एक एक इंच स्थान की बेहद उपयोगिता है और अतिक्रमण हमारी व्यवस्था को बाधित करता है। मेले के दौरान भीड़ प्रबंधन का यह मतलब नही होता कि हर चीज को बांध दिया जाए, बल्कि भीड़ के प्राकृतिक फ्लो को सही दिशा में उसके गंतव्य तक भेजना होता है। संजय गुंज्याल द्वारा बताया गया कि आने वाले शाही स्नान एक परीक्षा की तरह है जिसके लिए हम सभी लंबे समय से तैयारी करते हुए आये हैं और अब समय आ गया है कि हम अपनी भरपूर और पूर्ण तैयारियों के साथ जी जान से ये परीक्षा दें और अच्छे नम्बरों से पास हों।पुलिस महानिदेशक उत्तराखंड अशोक कुमार ने अपना सम्बोधन किया और बताया कि आप सब सौभाग्यशाली में ड्यूटी करने का अवसर मिला, क्योंकि महा कुम्भ में आने के लिए लोग बरसों इंतजार करते हैं और दूर दूर से आते हैं, लेकिन आपको किस्मत से ये अवसर मिला है। आगामी दोनो शाही स्नान पर्वों में देशभर से श्रद्धालु आएंगे। हमें अपनी ड्यूटी की अच्छे से जानकारी होनी चाहिए। हमारी व्यवस्था उतनी ही मजबूत है जितना हमारी व्यवस्था का सबसे कमजोर व्यक्ति। इसलिए जरूरी है कि प्रत्येक जवान अपनी ड्यूटी और अपनी भूमिका को अच्छे से जान समझ ले।

allnewsbharat.com

Related Post