Latest News

रुद्रप्रयाग में निजी स्वास्थ्य केंद्रों सहित अन्य विभागीय व सामाजिक सरोकारों से जुड़े व्यक्तियों को शामिल किया


राजकीय इंटरमीडिएट काॅलेज रुद्रप्रयाग के सभागार में आयोजित कार्यशाला के विषय में जानकारी देते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. बी. के. शुक्ला ने बताया कि मूलतः कैसी भी परिस्थिति में किसी भी विधि द्वारा प्रसव पूर्व लिंग जांच अथवा निर्धारण नही किया जा सकता है।

रुद्रप्रयाग 06 फरवरी 2021, स्वास्थ्य विभाग द्वारा आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में पी.सी.पी.एन.डी.टी. के तहत गठित जिला सलाहकार समिति व जिला निरीक्षण अनुश्रवण समिति के सदस्यों, अल्ट्रासाउंड संचालकों निजी चिकित्सालय के प्रभारियों को पी.सी.पी.एन.डी.टी. एक्ट के प्रभावी व सफल क्रियान्वयन हेतु प्रावधानों के संबंध में विस्तृत से जानकारी दी गयी। राजकीय इंटरमीडिएट काॅलेज रुद्रप्रयाग के सभागार में आयोजित कार्यशाला के विषय में जानकारी देते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. बी. के. शुक्ला ने बताया कि मूलतः कैसी भी परिस्थिति में किसी भी विधि द्वारा प्रसव पूर्व लिंग जांच अथवा निर्धारण नही किया जा सकता है। कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने कहा कि पी.सी.पी.एन.डी.टी. एक्ट के तहत इसमें कार्यवाही का प्रावधान है। बताया कि जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जनपद में समिति का गठन किया गया है, जिसमें निजी स्वास्थ्य केंद्रों सहित अन्य विभागीय व सामाजिक सरोकारों से जुड़े व्यक्तियों को शामिल किया गया है। आज आयोजित कार्यशाला में प्रतिभागियों को पी.सी.पी.एन.डी.टी. एक्ट के तहत लिंग निर्धारण की जांच करवाने वाले के विरूद्ध की जाने वाली कार्यवाही के बारे में विस्तृत से जानकारी दी गयी। इससे पूर्व अपर मुख्य चिकितसा अधिकारी डाॅ. जे.एस. नेगी ने प्रतिभागियों को विस्तारपूर्वक पीसीपीएनडीटी एक्ट के विषय में जानकारी दी। रेडियोलाॅजिस्ट डाॅ. एस. के. द्विवेदी द्वारा अल्ट्रसाउंड मशीन स्थापित होने वाले एक्टिव ट्रेकर के बारे में बताया गया। इस अवसर पर पी.सी.पी.एन.डी.टी. जिला समन्वयक डाॅ. मनवर सिंह रावत, डाॅ. डी.एस. रावत, वरिष्ठ सर्जन डाॅ. आनंद सिंह बोहरा, डाॅ. संजय बगवाड़ी, डाॅ. रुचिका भट्ट, डाॅ. मयंक चैहान, अमृतराज पोखरियाल, विपिन सेमवाल, सुशीला बिष्ट, अशोक चैधरी, एम.पी. पुरोहित सहित अन्य लोग मौजूद थे।

अंजना भट्ट घिल्डियाल

Related Post