Latest News

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर पौड़ी अधिकारियों ने योगाभ्यास में प्रतिभाग किया।


अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर आज राजकीय इंटर कॉलेज पौड़ी में जिलाधिकारी डॉ0 विजय कुमार जोगदण्डे के नेतृत्व में जनपद के मुख्य विकास अधिकारी आशीष भटगांई, अपर जिलाधिकारी डॉ0 एसके बरनवाल सहित अन्य स्तरीय अधिकारियों ने योगाभ्यास में प्रतिभाग किया।

पौड़ी/दिनांक 21 जून, 2021, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर आज राजकीय इंटर कॉलेज पौड़ी में जिलाधिकारी डॉ0 विजय कुमार जोगदण्डे के नेतृत्व में जनपद के मुख्य विकास अधिकारी आशीष भटगांई, अपर जिलाधिकारी डॉ0 एसके बरनवाल सहित अन्य स्तरीय अधिकारियों ने योगाभ्यास में प्रतिभाग किया। इस दौरान योग प्रशिक्षकों द्वारा कपाल भाती, अनुलोम-विलोम, प्राणायाम, वज्रासन, ताड़ासन सहित विभिन्न योग क्रियाओं के अभ्यास करते हुए उनके शरीर के लिए फायदे बताए। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर हर वर्ष अलग-अलग थीम रखी जाती हैं, इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की थीम स्वास्थ्य के लिए योग( योग फॉर वेलनेस) है। कोविड-19 गाइड लाइन के चलते सीमित संख्या में योग दिवस मनाया गया। जिलाधिकारी डॉ0 जोगदण्डे ने कहा कि इसी तरह हर रोज लोगों को अपने-अपने घरों में योगा करना चाहिए, जिससे हमारे शरीर को काफी फायदे मिल सकेंगे। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव के लिए भी योगा काफी फायदेमंद है। जिलाधिकारी डॉ0 जोगदण्डे ने कहा कि दुनिया भर में हर साल 21 जून का दिन अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के तौर पर मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि मानव सभ्यता की शुरुआत से ही योग किया जा रहा है। 11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने हर साल 21 जून का दिन अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के तौर पर मनाए जाने की घोषणा की थी। उन्होंने कहा कि जनपद में सीमित संख्या में अधिकारियों की उपस्थिति में योगाभ्यास की विभिन्न क्रियाओं का क्रियान्वयन किया। उन्होंने आम जनमानस अपील करते हुए कहा कि नियमित रूप से योगाभ्यास करे, जिससे शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ रहा जा सके। आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी डॉ0 सुभाष चंद्रा ने कहा कि कोविड-19 गाइड लाइन का अनुपालन करते हुए सीमित संख्या में योगाभ्याश किया गया। कहा कि आयुर्वेदिक प्रशिक्षक डॉ0 सुरेखा व दीपक द्वारा विभिन्न तरह के योग करने के गुर सिखाए गए। साथ ही उन्होंने अन्य लोगों को भी कोरोना काल के दौरान अपने-अपने घरों में योगा करने की अपील की है। योगाभ्यास के दौरान मानसिक शांति एवं मन की एकाग्रता हेतु अनापान की साधना भी की गई।

अंजना भट्ट घिल्डियाल

Related Post