Latest News

रुद्रप्रयाग जिलाधिकारी ने लम्बित प्रकरणों को प्राथमिकता के साथ निपटाने के लिए अधिवक्ताओं को निर्देश दिए।


जिलाधिकारी मयूर दीक्षित की अध्यक्षता में जिला कार्यालय सभागार में मासिक बैठक आयोजित की गयी जिसमें राजस्व एवं पुलिस क्षेत्रों के अन्तर्गत अपराधों, सत्र न्यायालयों एवं विभिन्न न्यायालयों में लम्बित वादों, राजस्व वादों के निस्तारण, राजस्व वसूली, पेंशन प्रकरण समेत राजस्व विभाग के अन्तर्गत विभिन्न अधिष्ठानों के तहत संपन्न होने वाले कार्यों के साथ-साथ खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, आबकारी तथा खनन आदि विभाग से संबंधित कार्यों की प्रगति की गहनता से समीक्षा की।

रुद्रप्रयाग 22 जून, 2022, जिलाधिकारी मयूर दीक्षित की अध्यक्षता में जिला कार्यालय सभागार में मासिक बैठक आयोजित की गयी जिसमें राजस्व एवं पुलिस क्षेत्रों के अन्तर्गत अपराधों, सत्र न्यायालयों एवं विभिन्न न्यायालयों में लम्बित वादों, राजस्व वादों के निस्तारण, राजस्व वसूली, पेंशन प्रकरण समेत राजस्व विभाग के अन्तर्गत विभिन्न अधिष्ठानों के तहत संपन्न होने वाले कार्यों के साथ-साथ खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, आबकारी तथा खनन आदि विभाग से संबंधित कार्यों की प्रगति की गहनता से समीक्षा की। समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने सत्र न्यायालय व उप जिलाधिकारी न्यायालयों में लम्बित प्रकरणों को प्राथमिकता के साथ निपटाने के लिए अधिवक्ताओं को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि वादों के निराकरण के लिए प्रभावी पैरवी करते हुए गवाही शत-प्रतिशत करवाएं उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाय कि समस्त राजस्व वाद निर्धारित समयावधि के अंतर्गत निस्तारित हों। उन्होंने सभी उप जिलाधिकारियों को निर्देश दिये हंै कि राजस्व क्षेत्र में हो रहे अपराधों को गम्भीरता से लेते हुए अपराधी के विरूद्ध कड़ी कानूनी कार्यवाही करना सुनिश्चित करें तथा दोषी को कडी से कडी सजा दिलाना सुनिश्चित करें। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि एक वर्ष से अधिक अवधि के लंबित वादों को शीर्ष प्राथमिकता के साथ निस्तारण करना सुनिश्चित करें। राजस्व वसूली की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने सभी उप जिलाधिकारियों एवं तहसीलदारों को निर्देश दिए हैं कि राजस्व वसूली में सभी अधिकारी गंभीरता से कार्य करें तथा बड़े बकायेदारों से वसूली करना सुनिश्चित करें इसमें किसी भी प्रकार की कोई हीला-हवाली न बरती जाए। आॅडिट आपत्तियों की समीक्षा करते हुए संबंधित अधिकारियों एवं पटल सहायकों को निर्देश दिए हैं कि जिस स्तर पर भी आॅडिट आपत्तियां लंबित हैं उन पर यथाशीघ्र कार्यवाही करना सुनिश्चित करें तथा कार्मिकों के लंबित पेंशन प्रकरणों पर भी उचित कार्यवाही करते हुए उनका निस्तारण करना सुनिश्चित करें इसमें किसी भी दशा में ढिलाई न बरती जाए। उन्होंने तहसीलवार बनाये जाने वाले प्रमाण पत्रों की भी समीक्षा करते हुए कहा कि सभी तहसीलों से जो भी प्रमाण पत्र निर्गत किये जा रहे हैं उन प्रमाण पत्रों को समय से तैयार कर आवेदनकर्ता को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें प्रमाण पत्रों को जारी करने में किसी प्रकार की कोई लापरवाही न बरती जाय।

अंजना भट्ट घिल्डियाल

Related Post