Latest News

योग धर्म सर्वाेपरि, व्यष्टि से समष्टि तक की यात्र है योग: स्वामी रामदेव


7वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आज योगऋषि स्वामी रामदेव तथा आयुर्वेद शिरोमणि आचार्य बालकृष्ण के पावन सान्निध्य में पतंजलि योगपीठ-।। स्थित योगभवन सभागार के साथ पूरा विश्व योगमय हो गया। चारों वेद, उपनिषद्, दर्शन तथा श्रीमद्भगवतगीता की पावन ऋचाओं के वाचन के मध्य योग का शंखनाद करते हुए स्वामी ने स्वस्थ जीवन व निरोगी काया की प्राप्ति के लिए योग को एकमात्र साधन बताया।

हरिद्वार, 21 जूनः आज 7वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आज योगऋषि स्वामी रामदेव तथा आयुर्वेद शिरोमणि आचार्य बालकृष्ण के पावन सान्निध्य में पतंजलि योगपीठ-।। स्थित योगभवन सभागार के साथ पूरा विश्व योगमय हो गया। चारों वेद, उपनिषद्, दर्शन तथा श्रीमद्भगवतगीता की पावन ऋचाओं के वाचन के मध्य योग का शंखनाद करते हुए स्वामी ने स्वस्थ जीवन व निरोगी काया की प्राप्ति के लिए योग को एकमात्र साधन बताया। व्यष्टि से समष्टि तक की यात्रा है योग। यौगिक स्केटिंग, यौगिक जिम्नास्टिक, मल्लखम्भ, मल्लयुद्ध, यौगिक मुद्राओं और झांकियों के साथ कार्यक्रम की शुरूआत हुई। इस अवसर पर स्वामी ने कहा कि आज के इस युग में योग धर्म सर्वाेपरि है, योगधर्म ही युग धर्म, राष्ट्र धर्म, सेवा धर्म, मानव धर्म, अध्यात्म धर्म तथा भागवत धर्म है। योग में ही हमारी शारीरिक, मानसिक, सामाजिक, भावनात्मक, धार्मिक तथा आध्यात्मिक सभी सभी प्रकार की समस्याओं का समाधान है। योग फॉर हेल्थ, योग फॉर वैलनेस, योग फॉर पीस, योग फॉर हार्माेनी ये योग के विभिन्न आयाम है। योग एक ब्रह्मास्त्र है जिससे हम अपने शरीरबल, मनोबल, आत्मबल को प्रबल करके अपने जीवन का निर्माण करते हुए अंत मे निर्वाण मोक्ष को प्राप्त होते हैं। स्वामी जी महाराज ने आह्नान किया कि मात्र एक दिन के लिए नहीं प्रतिदिन योग करने का संकल्प लें। योगमय जीवन के माध्यम से योगवृत्ति, यज्ञवृत्ति, आयुर्वेदवृत्ति, प्राकृर्तिकवृत्ति, स्वदेशिवृत्ति, राष्ट्रवृत्ति, अध्यात्मवृत्ति बनकर राष्ट्र के लिए उपयोगी बनें। वैयत्तिफ़क, पारिवारिक, सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक, आध्यात्मिक, जीवन के हर संदर्भ में हमें एक समग्र दृष्टि रखनी है, संतुलित, न्यायपूर्ण, प्रीतिपूर्ण दृष्टि रखनी है। वेद, शास्त्र तथा हमारे पूर्वज भी हमें यही दृष्टि प्रदान करते हैं। इस अवसर पर आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि आज 7वाँ अंतराष्ट्रीय योग दिवस पूरा विश्व पूर्ण उल्लास के साथ मना रहा है। उपस्थित योग साधकों को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान युग में योग की उद्गम स्थली पतंजलि योगपीठ तथा उद्गम पुरुष स्वामी रामदेव जी महाराज के नेतृत्व में हमनें प्रातःकाल 5 बजे से इस योग का उत्सव, योग का आनन्द व योग के विविध क्रियाओं का स्वयं अनुष्ठान व प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि योग को विविध तरह से किया जा सकता है, उसके विविध अंग तथा आयाम हैं। योग के द्वारा विविध व्याधियों को नष्ट किया जा सकता है। स्वयं प्रधानमंत्री जी ने कहा है कि योग ने आम जनता की नहीं चिकित्सकों के जीवन की रक्षा करने में बड़ा योगदान दिया है। यह निर्विवाद है कि योग में अपार शक्ति है। हम सबको उस शक्ति को पहचानकर जितना जल्दी हो सके योग से जुड़कर दुनिया को रोगमुक्त करते हुए हिंसा से बचाने का कार्य करना है। जिसके जीवन में सरलता है, सत्यता है, अहिंसा है वह संसार में भी उन्हीं चीजों को लेकर जाएगा। आज संसार को सुंदर बनाने के लिए पूरे विश्व में विविध तरह के उपाय किए जा रहे हैं पर योग उपाय है व्यक्ति को सुंदर बनाने का। जब व्यक्ति-व्यक्ति का निर्माण होगा, तो विश्व का निर्माण स्वतः होगा। तो आइए! हम सब मिलकर योग को आत्मसात करते हुए दुनिया के प्रत्येक व्यक्ति तक योग को पहुँचाने का संकल्प लें। जैसे आदरणीय प्रधानमंत्री जी के प्रयास से योग 200 देशों में पहुँचा है, वैसे ही श्रद्धेय स्वामी जी के प्रयास से 200 देशों में पतंजलि से जुड़े भाई-बहन योग का कार्यक्रम संचालित कर रहे हैं। आचार्य ने कहा कि कोरोना काल की विषम परिस्थितियों ने दिखाया है कि योग में कितनी शक्ति, ताकत व दम है। अब योग की परीक्षा नहीं, योग का आचरण होना चाहिए, योग का जीवन में आत्मसात होना चाहिए। हम योगी बनेंगे, तो निरोगी रहेंगे। जितना हम निरोगी होंगे उतना ही देश व समाज के लिए उपयोगी व उपकारी सिद्ध होंगे।

allnewsbharat.com

Related Post