Latest News

कोटद्वार में छात्र-छात्राओं को आग लगने पर आग बुझाकर डेमो दिया गया


फायर सर्विस कोटद्वार की ओर से सेन्ट जोसेफ कॉनवेंट स्कूल पदमपुर कोटद्वार के छात्र-छात्राओं को अग्नि सुरक्षा के बारे में जानकारी दी गई। विद्यार्थियों को अग्निशमन के लिए उपयोगी और प्रभावकारी उपकरणों का डैमो किया गया। डैमो के जरिए फायर सर्विस के अधिकारी श्री अनिल कुमार त्यागी के द्वारा बच्चों को आग बुझाने वाले अग्नि सुरक्षा उपकरणों से परिचय कराया व छात्र-छात्राओं को आग लगने पर की जाने वाली कार्यवाही के बारे में निम्न जानकारी दी गई| आग लगने पर तुरंत 101,112 नंबर पर कॉल करके सूचना दें।

आज दिनांक 26-09-19 को फायर सर्विस कोटद्वार की ओर से सेन्ट जोसेफ कॉनवेंट स्कूल पदमपुर कोटद्वार के छात्र-छात्राओं को अग्नि सुरक्षा के बारे में जानकारी दी गई। विद्यार्थियों को अग्निशमन के लिए उपयोगी और प्रभावकारी उपकरणों का डैमो किया गया। डैमो के जरिए फायर सर्विस के अधिकारी श्री अनिल कुमार त्यागी के द्वारा बच्चों को आग बुझाने वाले अग्नि सुरक्षा उपकरणों से परिचय कराया व छात्र-छात्राओं को आग लगने पर की जाने वाली कार्यवाही के बारे में निम्न जानकारी दी गई| आग लगने पर तुरंत 101,112 नंबर पर कॉल करके सूचना दें। यह न सोचें कि कोई दूसरा इसकी सूचना पहले ही दे चुका होगा। अग्नि चेतावनी की घंटी (फायर अलार्म) को सक्रिय करें। फिर बहुत जोर से “आग-आग” चिल्लाकर लोगों को सचेत करें। चेतावनी कम शब्दों में ही दें, नहीं तो लोगों को घटना की गंभीरता समझने में ज्यादा समय लग जायेगा। आग लगने पर लिफ्ट का उपयोग न करें ,केवल सीढ़ियों का ही प्रयोग करें। धुएँ से घिरे होने पर अपने नाक और मुँह को गीले कपडे से ढँक लें। अगर आप धुएं से भरे कमरे में फँस जाएं और बाहर निकलने का रास्ता न हो तो दरवाजे को बंद कर लें और सभी दरारों और सुराखों को गीले तौलिये या चादरों से सील कर दें, जिससे धुआं अंदर न आ सके। अगर आग आपकी अपनी ईमारत में लगी है और आप अभी फ़से नहीं हैं तो पहले बाहर आएं और वहीं रूककर 101,112 नंबर पर अग्निशमन सेवा को घटना की सूचना दें। अग्निशामक यन्त्र का प्रयोग कब और कैसे करना है इस बारे में अवश्य जाने और लोगों को भी इसकी जानकारी दें। घटनास्थल के नज़दीक भीड़ न लगने दें इससे आपातकालीन अग्निशमन सेवा और बचाव कार्य में बाधा होती है। ऐसी स्थिति में 101,112 पर कॉल करे और वहां से दूर हो जाए। यदि आपके कपड़ो में आग लग जाए तो भागे नहीं इससे आग और भड़केगी। जमीन पर लेट जाए और उलट पलट(रोल) करे। किसी कम्बल ,कोट या भारी कपडे से ढक कर आग बुझाएं।भारी धुंआ और जहरीली गैस सबसे पहले छत की तरफ इकट्ठा होती है, इसलिए अगर धुआं हो तो ज़मीन पर झुक कर बैठें।

अंजना भटट धिल्डियाल

Related Post